Tuesday , July 16 2019
Breaking News
Home / World / छत्तीसगढ़ में निष्पक्ष चुनाव को लेकर JCCJ ने निर्वाचन आयोग को सौंपा ज्ञापन, मोबाइल फोन बांटने पर रोक लगाने की मांग

छत्तीसगढ़ में निष्पक्ष चुनाव को लेकर JCCJ ने निर्वाचन आयोग को सौंपा ज्ञापन, मोबाइल फोन बांटने पर रोक लगाने की मांग

रायपुर। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अब प्रदेश में आरोप प्रत्यारोप का दौर भी शुरु हो चुका है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जोगी) के सुप्रीमों अजीत जोगी ने आज राज्य निर्वाचन आयोग से सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग व मनमानी की शिकायत के रोक को लेकर 7 विषयों पर अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा है। अजीत जोगी ने अपने ज्ञापन में कहा है कि छत्तीसगढ़ में सरकार स्वयं शराब की ठेकेदारी कर रही है और दुकानें चला रही है। सत्ताधारी दल, इसका दुरूपयोग कर मतदाताओं को प्रभावित करेंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार को मतदान के एक माह पूर्व प्रदेश की सभी शराब दुकानों को बंद करने निर्देशित करे अथवा प्रदेश की सारी शराब दुकानों को अपने अधीन लेकर संचालित करे एवं राज्य में निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करे।

राज्य सरकार मतदाताओं को प्रलोभन देने के उद्देश्य से सरकारी ख़जाने से ₹ 2000 करोड़ खर्च करके 51 लाख मोबाइल स्मार्ट फ़ोन, ठीक चुनाव के पहले बाटने जा रही है। इस फ़ोन में ऐसे प्री-लोडेड साफ्टवेयर हैं जिससे मतदाताओं को भाजपा के पक्ष में मतदान करने के लिए प्रभावित भी करा जाएगा। अतः मोबाइल फ़ोन वितरण पर तत्काल रोक लगायी जाए। अपनी तीसरी मांग में जोगी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की अधिकांश आबादी अभी कृषि कार्य में व्यस्त है, ऐसे में मतदाता सूची में नाम जोड़ने की अंतिम तिथि 31 जुलाई से 15 सितम्बर तक बढ़ाई जाए। एक ही स्थान पर, दो वर्षों का कार्यकाल पूरा कर चुके, प्रदेश अधिकारियों एवं चुनाव प्रक्रिया में भाग लेने वाले समस्त शासकीय कर्मचारियों का ट्रांसफर किया जाए।

बस्तर में मतदान, चुनाव आयोग के अन्य राज्यों से प्रतिनियुक्त केन्द्रीय पर्यवेक्षकों की देख रेख में हो न कि राज्य सेवा में पदस्थ अधिकारियों के निगरानी में। छत्तीसगढ़ में तीन चरणों में चुनाव कराया जाए। पहले चरण में बस्तर संभाग, दूसरे चरण में सरगुज़ा संभाग एवं तीसरे चरण में शेष छत्तीसगढ़। देश के विख्यात समाचार पत्रों एवं रिपोर्टों के अनुसार पिछले विधानसभा चुनावों में मतदान के दौरान, बस्तर क्षेत्र में जमकर धांधली की शिकायतें आयी थी। भय का वातावरण बनाकर वोटों को प्रभावित किया गया। नतीजा यह हुआ कि बस्तर की सत्य घटनाओं पर आधारित ‘न्यूटन’ जैसी फिल्मों ने पूरी दुनिया को बस्तर की अलोकतांत्रिक मतदान प्रक्रिया का सच दिखाया। 2018 चुनाव में बिना किसी भय और दबाव के बहुसंख्या में लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करें, इस हेतु जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) यह मांग करती है कि चुनाव आयोग, बस्तर के सभी पोलिंग बूथ और समस्त अतिसंवेदनशील पोलिंग बूथों में मतदान के दौरान की वीडियो रिकाॅर्डिंग बनाये।

About Chunnilal Dewangan

Check Also

सुप्रीम कोर्ट में आज कई बड़े फैसले, पदोन्नति में आरक्षण पर 12 वर्ष पुराने फैसले पर नजर

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में बुधवार का दिन कई बड़े फैसलों का साक्षी बनने जा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *