Tuesday , July 16 2019
Breaking News
Home / World / यदि आप इन कम्पनियों की दवाई खा रहे हैं तो हो जाइए सावधान, जांच में निकली गड़बड़ियां

यदि आप इन कम्पनियों की दवाई खा रहे हैं तो हो जाइए सावधान, जांच में निकली गड़बड़ियां

डेस्क। राजस्थान दवा नियंत्रक बोर्ड ने 4 बड़ी दवा कंपनियों, जिनमें सिप्ला, सन फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज, एरिस्टो फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज और एलकेम लेबोरेट्री की कुछ दवाओं को घटिया करार दिया है। बोर्ड ने अपने ड्रग कंट्रोल अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि स्टॉक में मौजूद ये दवाएं ना इस्तेमाल हों और साथ ही बाजार से भी इन दवाओं को हटाया जाए। हालांकि कंपनियों ने द इंडियन एक्सप्रेस को गुरुवार को बताया कि राजस्थान दवा नियंत्रक बोर्ड द्वारा जो सैंपल टेस्ट किए गए हैं, वो ‘नकली’ हैं। 2 अगस्त को राजस्थान के दवा नियंत्रक बोर्ड ने अपने अधिकारियों को एक बुलेटिन भेजा है, जिसमें 4 बड़ी दवा कंपनियों के कुल 8 ब्रांड को गुणवत्ता के अनुरुप नहीं माना है। इसके अलावा इस लिस्ट में छोटी दवा कंपनियों के 9 अन्य ब्रांड भी शामिल हैं।

              दवा नियंत्रक बोर्ड ने इस बुलेटिन में लिखा है कि कुछ विशेष सैंपल जांच के दौरान गुणवत्ता के अनुरुप नहीं पाए गए हैं। ऐसे में ड्रग्स एंड कोस्मेटिक्स एक्ट, 1940 के नियमों के तहत इन दवाओं का स्टॉक इस्तेमाल ना हो, यह सुनिश्चित किया जाए और साथ ही उपभोक्ताओं को इन दवाओं के बदले में कोई उचित दवा मुहैया कराने का प्रबंध किया जाए। बता दें कि राजस्थान दवा नियंत्रक की जांच के दौरान सन फार्मा का मशहूर ब्रांड Pantocid DSR- जिसका बैच नंबर EMS 2060 है- गुणवत्ता के अनुरुप नहीं पाया गया है। इस दवाई का मुख्य इंग्रीडेंट पैंटाप्राजोल जहां दवाई से गायब मिला, वहीं एक अन्य इंग्रीडेंट अपने बताए गए अनुपात से काफी कम मिला। वहीं इस पर सन फार्मा कंपनी का कहना है कि जो सैंपल ड्रग अधिकारियों द्वारा जांचे गए हैं, उनका निर्माण सन फार्मा द्वारा नहीं किया गया है। हमने भी इन सैंपल्स की जांच की है और अपनी जांच में इन्हें नकली पाया है।

About Chunnilal Dewangan

Check Also

अटल विकास यात्रा में बस्तर को मिली एक बड़ी सौगात, सीएम ने कहा रेल मार्ग से खुलेंगे विकास के दरवाजे

जगदलपुर। प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के तहत आज छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *