Friday , September 20 2019
Breaking News
Home / Uncategorized / कटघोरा नपा का मामलाः पीएम आवास के लिए इंजीनियर ने की महिला से 20 हजार की मांग, कहा पैसे नहीं है तो घरो में झाड़ू-पोछा करो लेकिन पैसे दो

कटघोरा नपा का मामलाः पीएम आवास के लिए इंजीनियर ने की महिला से 20 हजार की मांग, कहा पैसे नहीं है तो घरो में झाड़ू-पोछा करो लेकिन पैसे दो

किशोर महंत, कोरबा। कटघोरा नगर पालिका में इंजीनियर की एक नई करतूत सामने आई है। जो इन दिनों शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है। गरीबी लोगों को बेहतर आवास की सुविधा देने के लिए शुरु की गई प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री आवास योजना को अब अधिकारी ही पतीला लगाने में लगे हुए है। जानकारी के अनुसार कटघोरा के इतिहास नगर (पूछापारा) में रहने वाली झूलन बाई ने नगर पालिका के इंजीनियर पर पीएम आवास को लेकर घूस मांगने का आरोप लगाया है। झूलन बाई पति स्व. जैतराम अकेले ही अपने मिट्टी के घर में निवास करती है। झूलन ने बताया की वह पीएम आवास की हितग्राही है और उसका मकान भी लगभग पूरा हो चुका है। लगभग दो महीने भर पहले नगरपालिका की एक महिला अभियंता और एक अन्य निजी इंजीनियर जो कि उसके आवास का निर्माण करा रहा है वह उसके घर पहुंचे और उससे आवास पूरा करने के एवज में कथित तौर पर बीस हजार रूपये नकद की मांग करने लगे।

                           पीड़ित झूलन बाई ने जब पैसे मांगे जाने की वजह जाननी चाही तो उसे बताया गया की शासन से मकान के लिए जारी पैसे अब ख़त्म हो चुके है लिहाजा आगे के निर्माण के लिए उसे खुद के पैसे लगाने पड़ेंगे। महिला ने जब इंजीनियर के सामने पैसे नहीं होने की बात कही तो नपा के महिला इंजीनियर ने उसे घर में झाड़ू-पोछा करने तक की सलाह दी। झूलन ने जब अपने उम्र का हवाला दिया तो दोनों इंजीनियर ने उस पर रिश्तेदारों से पैसे मांगने की नसीहत दे डाली। जब झूलन ने इस बात पर भी अपनी असमर्थता जताई तो महिला इंजीनियर ने संवेदनहीनता की हदो को पार करते हुए उससे पेंशन की राशि देने तक की बात कह दी।

                       नगर पालिका के अधिकारियों के इस करतूत के बाद पालिका की कार्यशैली पर अब सवालिया निशान लगने लगा है। वही सीएमओ का कहना है कि पैसे पीएम आवास पूरा करने के एवज में मांगे जा रहे थे यह बात भी किसी के गले नहीं उतर रहा है क्योंकि आवास योजना में होने वाले सभी लेनदेन बैंक के माध्यम से होते है। यहाँ तक की आवास निर्माण में लगे मजदूरों का भुगतान भी खातो के माध्यम से किया जाना है। ऐसे में किसी इंजीनियर और ठेकेदार के द्वारा किसी हितग्राही से नकद की मांग करना और पैसे नहीं होने पर उसे धमकिया देना यह जांच का विषय है।

About admin

Check Also

अटल विकास यात्रा में बस्तर को मिली एक बड़ी सौगात, सीएम ने कहा रेल मार्ग से खुलेंगे विकास के दरवाजे

जगदलपुर। प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के तहत आज छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *