Tuesday , July 16 2019
Breaking News
Home / विचार

विचार

अब स्वीकार्यता आपका आभूषण हो ओपी भाईसाब

ओपी भाईसाब को कब लगा कि राजीनीति में आना चाहिए, जब वे निगम की कमिश्नरी में थे तब, तीन जिलों की कलेक्टरी में या जनसम्पर्क संचालक रहने के दौरान ? ओपी भाईसाब को लेकर आपका अनुभव भले ही सुखद रहा हो लेकिन पत्रकार के तौर पर मेरा अनुभव बहुत अच्छा …

Read More »

मोदी राज में अमीर-गरीब की बढ़ी खाई

देश में अमीर और गरीब की खाई बढ़ती जाए और फिर भी सत्तारुढ़ नेता दावा करें कि 2019 के चुनाव में वे प्रचंड बहुमत से जीतेंगे तो जरा आश्चर्य होता है। अमीरों की संख्या हजारों में रहती है, जबकि गरीबों की संख्या करोड़ों में है। लोकतंत्र की सबसे बड़ी मुश्किल …

Read More »

नजरिया: यूं ही अटल नहीं हो जाता कोई

साभार- संजीव शर्मा  बात उन दिनों की हैं जब पांचजन्य में कार्यरत था। अटल जी प्रधानमंत्री थे। उसी दौरान पांचजन्य का स्वर्ण जयंती समारोह आया। अटल जी पत्रिका के संस्थापक संपादक थे लिहाज़ा उनका फरमान था कि समारोह धूम से मने। मना भी। तीन दिन तक फिक्की सभागार में समारोह …

Read More »

आसान नही छत्तीसगढ़ की सत्ता में काबिज होना

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव अब सर पर आ गया है। लेकिन इस बार छत्तीसगढ़ की सत्ता में काबिज होना आसान नजर नहीं आ रहा है। प्रदेश में अब तक दो पार्टियों के बीच सीधे मुकाबला हो रहा था। लेकिन पिछले 15 सालों से प्रदेश की सत्ता में काबिज भारतीय जनता …

Read More »